Search

Bj Shayaries

Best 2 Lines Shayari

Tag

dard

कांटे की तरह चुभ रही है जिंदगी, पता है क्यूँ!!!

कांटे की तरह चुभ रही है जिंदगी, पता है क्यूँ,
तेरी हर एक बात आज याद आ रहीं है..

Advertisements

आइना फिर आज रिश्वत लेते !!

आइना फिर आज रिश्वत लेते पकड़ा गया,
दिल में दर्द था फिर भी चेहरा हँसता हुआ दिखाई दिया !!

सुना है कुछ पाने के लिए !!

सुना है कुछ पाने के लिए कुछ महेनत करनी पड़ती है,
ना जाने मैंने कौन सी महेनत की थी दर्द को पाने के लिए !!

इश्क अब बुझ चुका है!!

इश्क अब बुझ चुका है,
क्यूंकि हम जल चुके है !!

काश दर्द के भी !!

काश दर्द के भी पैर होते,
थक कर रुक तो जाते कहीं !!

वक़्त के एक ‘दौर’ में इस कदर भूखा था मैं,
कि कुछ न मिला तो धोखा ही खा गया..

वो कहानी थी, चलती रही, मै किस्सा था, खत्म हुआ..

आज याद आये उसके आखरी !!!

आज याद आये उसके आखरी अलफ़ाज़ वो कुछ यूँ थे,
अब जी सको तो जी लेना, पर मर जाओ तो बेहतर है..

कितने दर्दनाक थे वो मंज़र!!!

कितने दर्दनाक थे वो मंज़र, जब हम बिछड़े थे,
उसने कहा था जीना भी नहीं और रोना भी नहीं..

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: