अकसर भुल जाती हूँ मैं तुम्हें शाम की चाय में चीनी की तरह, फिर जिंदगी का फीकापन तुम्हारी कमी का एहसास दिला देता है !!

Sent by a follower

Advertisements